प्रत्येक स्मार्टफोन में इन फ्लैगशिप फीचर्स का होना जरूरी है

smartphone

इंण्डियन मार्केट में सबसे ज्यादा बजटिड स्मार्टफोन की मांग रहती है। ग्राहको की जरूरत को ध्यान में रखते हुए ज्यादातर सभी स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनियां बजटिड स्मार्टफोन में मंहगे फीचर देने की कोशिश कर रहीं है। बजटिड स्मार्टफोन को लेकर मार्केट में इतना कम्पटीशन बढ गया है कि सभी कंपनी एक- दूसरे को मात देने के लिए एडवांस फीचर से लैस स्मार्टफोन लांच करने पर मजबूर हो गयी है।
आइये जान लेते है वह जरूरी फीचर जो एक बजटिड स्मार्टफोन में जरूर होने चाहिए-

फिंगरप्रिंट स्कैनरः-

गूगल ने मार्शमैलो अपडेट के साथ फिंगरप्रिंट स्कैनर जैसे कई नये फीचर एड किये है। सिक्योर्टी परपज से भी फिंगरप्रिंट स्कैनर का स्मार्टफोन में होना जरूरी है इससे यूजर आसानी से फोन को अनलॉक कर सकता है। इसके साथ ही क्रेडिट कार्ड के बफर के तौर पर भी फिंगरप्रिंट स्कैनर स्कैनर को यूज किया जा सकता है। जिससे यूजर को वार-वार क्रेडिट कार्ड की डिटेल ऑनलाइन डालने की जरूरत नही पड़ेगी। इंण्डियन मार्केट में शाउमी रेडमी नोट 4, कूलपैड नोट 3 लाइट और लेनोवो के अतिरिक्त और भी कई स्मार्टफोन फिंगरप्रिंट स्कैनर के साथ उपलब्ध है। यदि यह कम्पनियां 10000/ रूपये से कम कीमत में फिंगरप्रिंट स्कैनर दे सकती है तो अन्य कम्पनियां भी जरूर ऐसा कर सकती है।




लेजर एफ/पीडीएफ:-

                        बेहतरीन तस्वीर खीचने के लिये स्मार्टफोन में ऑटोफोकस(LED Flash) तकनीकी बहुत आवश्यक है। आज-कल प्रत्येक बजटिड स्मार्टफोन में यह फीचर जरूर होना चाहिए जिससे एक बजटिड स्मार्टफोन यूजर भी इसका इस्तेमाल कर सही तस्वीरें निकाल सके । Lenovo Vibe K5 Plus, Xiaomi Redmi Note 4  ऑटोफोकस(LED Flash) तकनीकी के साथ उपलब्ध है तो अन्य कम्पनियां भी जरूर इस फीचर के साथ ही स्मार्टफोन को लांच करना चाहिए।

यूएसबी टाइप-सी पोर्ट:-

यूएसबी टाइप-सी से लैस स्मार्टफोन डिफॉल्ट क्विक चार्ज होते है  तो स्मार्टफोन यृजर  खासतौर से भारतीयों के लिए यु बहुत बड़ी बात है। इसलिए स्मार्टफोन में यूएसबी टाइप-सी पोर्ट का होना बहुत जरूरी है। इसके अलावा भी इस फोचर के कई फायदे है जैसे यह रिवर्स चार्जिंग को भी सपोर्ट करता है। वर्तमान में इस तकनीकी का यूज कम ही स्मार्टफोन में देखने को मिल रहा है लेकिन अगर बजटिड स्मार्टफोन में यह तकनीकी आती है तो इसमें काफी बदलाव देखने को मिल सकते है।

क्विक चार्जिंग:-

आज के दौर में स्मार्टफोन में डिस्प्ले और कई अन्य फीचर तो बढ रहे है लेकिन बैट्री कम क्षमता वाली ही यूज की जा रही है इसका मुख्य कारण यह भी है कि स्मार्टफोन के डिजाइन और उसे स्लिम बनाने के कारण उसकी बैट्री भी छोटी कर दी जाती है तो यहां क्विक चार्जिंग तकनीकी बैट्री को चार्ज करना में ज्यादा सहायक होगी। अगर देखा जाये तो यह फोचर तेजी से बढ रहा है उम्मीद है आने वाले वक्त में क्विक चार्जिंग तकनीकी सभी स्मार्टफोन में अनिवार्य हो जाये।




एनएफसी:-

गूगल प्ले यूज करने का एनएपसी सबसे सुरक्षित तरीका है। इस टेक्नोलोजी को ऑनलाइन ट्रांजेक्शन के भविष्य के रूप में देखा जा रहा है। हालांकि, इस टेक्नोलोजी की उपयोग सिर्फ ऑनलाइन ट्रांजेक्शन तक ही सीमित नहीं बल्कि और भी कई जगह इसका यूज किया जा सकता है।




इसका उपयोग मोबाइल पेमेंट करने में, यदि आपकी कार में यह फीचर है तो आप अपने स्मार्टफोन के एनएफसी का यूज करके कार का डोर ओपेन और उसे स्टार्ट कर सकते है। अपने मोबाइल से दूसरे के मोबाइल में डेटा ट्रांसफर कर सकते है।

इसे भी पढें:-

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *